Chull News
ब्रेकिंग न्यूज़
वीडियो समाचार सुल्तानपुर

देखिये क्यों ADM और BJP नेता हुये आमने सामने।एलईडी खरीद में घोटाले में कौन बोल रहा सच-कौन झूठ

Advertisement

दरअसल नगर पालिका परिषद सुल्तानपुर के सभासद और भाजपा नेता संतोष सिंह ने अपनी ही पार्टी के चेयरमैन बबिता जायसवाल पर 85 लाख की एलईडी घोटाले का आरोप लगाते हुये उन्हें कटघरे में खड़ा कर दिया। जिलाधिकारी सुल्तानपुर से शिकायत करते हुये संतोष ने आरोप लगाया कि  जिस  एलईडी की कीमत बाजार में करीब 3700 रुपये है उसी एलईडी को 8075 रुपये में खरीद लिया गया। एक दो एलईडी होती तब भी कुछ ठीक था, लेकिन यहां तो 80 लाख से ज्यादा रुपए में 1000 एलईडी खरीद कर बंदरबांट का आरोप लगाते हुये सभासद डॉ संतोष सिंह पालिका प्रशासन को कटघरे में खड़ा कर दिया। आरोप लगाते ही पालिका प्रशासन में हड़कम्प मच गया। वहीं जिलाधिकारी ने मामला की जांच के लिये अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व उमाकांत त्रिपाठी को नियुक्त कर दिया। एडीएम ने जांच की तो मामला सही पाया गया। लिहाजा जांच रिपोर्ट जिलाधिकारी के साथ साथ अपर मुख्य सचिव को भी प्रेषित कर दी गई। इस बात की जानकारी लगते नगर पालिका परिषद की चेयरमैन बबिता जायसवाल के प्रतिनिधि पति अजय जयसवाल को लगी तो वे बौखला उठे। पालिका प्रशासन पर लगे आरोपों खण्डन करते हुये प्रतिनिधि अजय जायसवाल ने सीधे सीधे अपरजिलाधिकारी उमाकांत त्रिपाठी को ही कटघरे में खड़ा कर संगीन आरोप लगा डाला। अजय की माने तो एडीएम उमाकांत त्रिपाठी लंभुआ नगर पंचायत के प्रशासक भी हैं। ऐसे में अपने पद का दुरुपयोग करते हुये PWD का शिड्यूल रेट
<span;> 9912 रुपए का है जिसके सापेक्ष 10200 रुपए टेंडर निकाला, जबकि 9 हज़ार से ज्यादा रुपए की दर एलईडी की  खरीद की गई है। वहीं पालिका प्रशासन द्वारा 8 हज़ार रुपयों में एलईडी की खरीद की गई है।इतना ही नही जिस हाई मास्ट का pwd का शिड्यूल रेट करीब 5 लाख रुपये है उसे ही एडीएम द्वारा प्रति हाई मास्ट करीब 8 लाख 79 हज़ार से ज्यादा रुपयों में  खरीदा गया। अजय जायसवाल ने आरोप लगाया कि ट्रांसपोर्ट नगर में बनी दुकानो की टीएसी जांच में निर्माण से संबंधित ठेकेदार, जेई और तत्कालीन अधिशाषी अधिकारी दोषी पाए गए।  उन्होंने कहा जिस समय ये दुकान बनी थी उस समय के ठेकेदारों और जेई पर कार्यवाही की गई लेकिन एडीएम उमाकांत त्रिपाठी द्वारा तत्कालीन अधिशाषी अधिकारी दुर्गेश्वर त्रिपाठी पर इसलिये कार्यवाही नही की गई क्योंकि दुर्गेश्वर त्रिपाठी एडीएम उमाकांत त्रिपाठी के सगे दामाद हैं। अजय जायसवाल ने साफ कहा कि इसकी पूरी शिकायत जिलाधिकारी से की जाएगी और अगर इस मामले में कार्यवाही नही होती है तो धरना प्रदर्सन का रुख अख्तियार करेंगे।

Related posts

KNIPSS में महिला समानता दिवस और मिशन शक्ति फेज 3 के तहत कार्यक्रम का हुआ आयोजन। ऑनलाइन कार्यक्रम में छात्राओं को स्वालंबी बनाने और रोजगार संबंधी बताए उपाय। महिला उद्यमी श्रीमती अमिता सेठ ने छात्राओं से ऑनलाइन मोड में की वार्ता। व्यवसाय शुरू करने और उसमें आने वाली बाधाओं और उसे हल करने का बताया उपाय

Chull News

औचक निरीक्षण करने गांव पहुंची टीम, ग्राम पंचायतों में मच गया हड़कम्प

Chull News

किसानों ने गन्ना फूंका गन्ना,गन्ना अधिकारी पर हैदरगढ़ प्राइवेट चीनीमिल में जबरन गन्ना भिजवाने का आरोप

Chull News

Leave a Comment